Connect with us

धर्म

रमज़ान में भारत के मुसलमानों के लिए गाइडलाइन

Published

on

रमज़ान भारत में 23 या 24 अप्रैल से शुरू होगा और एक महीने चलेगा. इसके बाद ईद का त्योहार मनाया जाता है जिसमें आमतौर पर लोग एक दूसरे के घर जाते हैं और गले मिलते हैं.

कोरोना के चलते भारत में लॉकडाउन है और देश भर की मस्जिदें बंद हैं

सऊदी अरब ने भी अपनी मस्जिदें बंद कर दीं, जिनमें दुनिया की सबसे पवित्र कही जाने वाली मक्का की मस्जिद भी शामिल है.

ईरान की इस्लामी सरकार ने कहा है कि अगर मुसलमान लॉकडाउन के कारण रमज़ान में रोज़े न रखना चाहें तो कोई हर्ज नहीं.

उधर भारत के ज़िम्मेदार मुसलमानों ने भी रमज़ान के महीने में लोगों से मस्जिद जा कर नमाज़ न पढ़ने की सलाह दी है.

लेकिन पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान के इमामों और मौलवियों ने अपनी सरकार के ख़िलाफ़ बग़ावत कर दी और मौलवियों की एक काउन्सिल ने घोषणा की है कि मुसलमान रमज़ान के महीने में मस्जिदों में जाकर नमाज़ अदा करेंगे.

रमज़ान के लिए गाइडलाइन

भारत के बुद्धिजीवियों ने मौलवियों से सलाह करके भारतीय मुसलमानों के लिए कुछ गाइडलाइंस जारी की हैं, जिनमें से ख़ास ये हैं:

– मस्जिदों के बजाय मुसलमान अपने घरों में नमाज़ पढ़ें और लॉकडाउन में मस्जिदों से लाउडस्पीकर से अज़ान भी बंद कर दें.

– रोज़ा खोलने के बाद रात में पढ़ी जाने वाली नमाज़ और तरावीह (रोज़ा खोलने के बाद की एक अहम नमाज़) भी घरों में पढ़ें

– मस्जिदों में इफ़्तार पार्टी का आयोजन न करें

– रमज़ान की ख़रीदारी के लिए घरों से बाहर न निकलें

रमज़ान

आगे हैं चुनौतियां…

इसके अलावा देश भर की कई मस्जिदों से भी रमज़ान के महीने में लॉकडाउन का पालन करने की घोषणा की जा रही है.

दिल्ली के महारानी बाग़ इलाक़े में एक पुरानी मस्जिद है जिसके गेट पर ताला पड़ा है. इसकी देख-रेख करने वाले मुइनुल हक़ ने कहा कि मस्जिद बंद ज़रूर है लेकिन पाँचों वक़्त लाउडस्पीकर से अज़ान होती है जिसमें रमज़ान में नमाज़ घर पर पढ़ने की अपील की जा रही है.

मुसलमानों ने रमज़ान की तैयारियां शुरू कर दी हैं. लेकिन लोगों से बातें करके लगता है कि इस लॉकडाउन में वो खान-पान के बजाय रूहानी तैयारी में जुटे हैं.

हैदराबाद के एक व्यापारी फ़रीद इक़बाक के अनुसार ये समय मस्जिदों में भीड़ लगाने का नहीं है. ये लॉकडाउन हमें एक मौक़ा दे रही है घरों में पूरे ध्यान के साथ इबादत करने की.

रमज़ान का महीना भारतीय मुसलमानों के लिए एक बड़ी चुनौती होगी. ये मुसलमानों का सबसे पवित्र महीना है जिसके दौरान 30 दिनों तक मुसलमान मस्जिदों में नमाज़ और क़ुरान साथ पढ़ते हैं.

पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एस वाई क़ुरैशी कहते हैं, “जो लोग आम दिनों में मस्जिदों में नहीं जाते, वो रमज़ान में ऐसा करते हैं. उन्हें लगता है कि इस मुबारक महीने में मस्जिद नहीं गए तो गुनाह होगा. इन गाइडलाइंस से उन्हें ये समझाने की कोशिश की गई है कि अगर मक्का (सऊदी अरब) में कुछ दिनों के लिए ताला लग सकता है, तो इसके सामने मस्जिद तो छोटी सी चीज़ है.”

रमज़ान

लॉकडाउन था तो गाइडलाइन क्यों?

मेरठ की एक मस्जिद के एक इमाम नजीब आलम के अनुसार रमज़ान इबादत का महीना है. इबादत घरों में भी की जा सकती है. लेकिन इस महीने में मस्जिदें ज़्यादा आबाद रहती हैं.

यूँ तो ये चुनौती दुनिया के हर उस मुस्लिम समुदाय के लिए है जहाँ लॉकडाउन लागू है लेकिन भारत के मुसलमानों और धर्म गुरुओं ने गाइडलाइन्स जारी करके इस बात को निश्चित करना चाहा है कि मुसलमान लॉकडाउन का पालन करें.

भारतीय अल्पसंख्यक आर्थिक विकास एजेंसी के अध्यक्ष एम जे ख़ान के कहा, “ये एक बहुत ही सराहनीय क़दम है और ये दर्शाता है कि कोरोनो वायरस फ़ैलने से बचाने के लिए समुदाय के नेता सार्थक क़दम उठा रहे हैं.”

हाल में दिल्ली के निज़ामुद्दीन इलाके में तब्लीग़ी जमात की धार्मिक सभा के दौरान हज़ारों लोग जुटे थे और इनमें से कई लोगों में कोरोना के मामले पाए गए थे.

इसके बाद मीडिया और सोशल मीडिया में भारत में फैल रहे कोरोना वायरस के मामलों का ज़िम्मेदार मुस्लिम समुदाय को ठहराया जाने लगा. जगह-जगह मुसलमानों के ख़िलाफ़ भेदभाव की शिकायतें आईं.

दिल्ली में मुसलमानों की संस्था इंडियन मुस्लिम्स फॉर इंडिया फ़र्स्ट ने मौलवियों-इमामों की निगरानी में ये गाइडलाइंस तैयार की हैं.

इस मुस्लिम संस्था के एक प्रसिद्ध सदस्य और आयकर विभाग के पूर्व कमिश्नर सैयद ज़फ़र महमूद कहते हैं, “भेदभाव करना इंसान की फ़ितरत में है. हाँ, मुसलमानों के साथ (कोरोना वायरस के फ़ैलाव को लेकर) भेदभाव हुआ है. हम सब को इस पर काबू पाने की ज़रूरत है और मुझे लगता है ये एक वक़्ती चीज़ है

देर से आया सरकार की ओर से बयान

मुस्लिम समुदाय काफ़ी सतर्क है. समुदाय के अंदर आम राय ये है कि तब्लीग़ी जमात ने इज्तेमा (धर्म सम्मलेन) का आयोजन करके एक भारी ग़लती की लेकिन इसको बहाना बनाकर पूरे समाज को बदनाम करने की कोशिश की गई है. वे इस बात पर हैरान हैं कि सरकारी तौर पर इसकी निंदा नहीं की गई.

शुरू में इस पर सरकारी बयान नहीं आया. लेकिन बाद में भारत सरकार ने एक बयान में कहा कि मुसलमानों को टारगेट न किया जाए.

और अब रविवार को ख़ुद प्रधानमंत्री मोदी ने यह बयान दिया कि “कोविड-19 जाति, धर्म, रंग, जाति, पंथ, भाषा या सीमाओं को नहीं देखता. इसलिए हमारी प्रतिक्रिया और आचरण में एकता और भाईचारे को प्रधानता दी जानी चाहिए. इस परिस्थिति में हम एक साथ हैं.”

इसके अलावा कर्नाटक के मुख्यमंत्री येदियुरप्पा ने कोरोना को लेकर मुसलमानों को बदनाम करने वालों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की घोषणा भी की.

Facebook Comments

Advertisement

Corona Updates

धर्म2 days ago

 भंडारे में 51 किलो दूध से होगा भोले बाबा का अभिषेक-बिट्टू गुंबर

लुधियाना।  शिव वैल्फेयर सोसायटी व इंसानियत एक धर्म की तरफ से  शिवरात्रि पर्व के उपलक्ष्य में 13 मार्च शनिवार को...

Uncategorized2 days ago

साहिर लुधियानवी की सौवीं जन्म शताब्दी पर किया याद

साहिर लुधियानवी की सौवीं जन्म शताब्दी पर कविता कथा कारवाँ संस्था की ओर से  शहीद भगत सिंह नगर में रंगों...

India News2 days ago

दो ट्रेनों की आमने सामने टक्कर -मची चीख पुकार

दो ट्रेनों की आमने सामने टक्कर हो गई जिस से चीख पुकार मच गई ,यह मामला समस्तीपुर-खगड़िया रेल खंड के...

अपराध2 days ago

जगराओं में क्षतिग्रस्त कार से 35 पेटी अवैध शराब बरामद

जीटी रोड पर रिलायंस पेट्रोल पंप मुल्लांपुर के नजदीक एक सफेद रंग की स्विफ्ट कार गाय के साथ टकराने के...

Uncategorized2 days ago

पंजाब,चंडीगढ़ में बारिश का अलर्ट, फिर बदल सकता है मौसम

विभाग ने पंजाब में 6-7 मार्च तक पंजाब में हल्की बारिश की संभावना जताई है। 7 मार्च को हरियाणा, चंडीगढ़,...

लुधियाना न्यूज़1 month ago

लुधियाना के वार्ड 22 की गलियों में जमा सीवरेज का गंदा पानी, लोगों का घर से निकलना हुआ मुश्किल

नगर निगम की व्यवस्था और पार्षद की लापरवाही का अंजाम शेरपुर में लोग भुगत रहे हैं। इलाके में सड़कों पर...

लाइफस्टाइल1 month ago

ये है दुनिया का अनोखा सिक्कों वाला पेड़, जिस पर लगे हैं हजारों सिक्के

ब्रिटेन में एक ऐसा पेड़ है जहां सिक्के पेड़ पर उगते हैं। ये पेड़ सिक्कों से जड़ा हुआ है जो...

स्वास्थ्य1 month ago

वजन कंट्रोल करने के साथ ही दिल की सेहत का भी ख्याल रखते हैं काले अंगूर, जानिए फायदे

अंगूर एक ऐसा रसीला फल है जिसे बच्चे से लेकर बूढ़े तक खाना पसंद करते हैं। बाजार में आपको कई...

लुधियाना न्यूज़1 month ago

लुधियाना में अभिभावकाें काे सता रहा सुरक्षा का डर, ड्रेस कोड भी बना चुनौती

पहली से पांचवीं कक्षा तक के बच्चों को भी स्कूल बुलाने के सरकार के फैसले ने अभिभावकों की चिंता में...

लुधियाना न्यूज़1 month ago

लुधियाना के गिदड़विंडी स्कूल के संक्रमित शिक्षक की पत्नी व बेटी पाजिटिव

सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल गिदड़विंडी में भी अब कोरोना चेन बनाने लगा है। संक्रमित शिक्षकों के परिवार के लोग भी...

लुधियाना न्यूज़1 month ago

लुधियाना पुलिस की सख्ती: हथियार के साथ Internet Media पर फोटो शेयर करने पर दर्ज होगी FIR

लाइसेंसी या अवैध हथियार के साथ किसी ने अब इंटरनेट मीडिया में फोटो शेयर की तो उस पर एफआइआर दर्ज...

लुधियाना न्यूज़1 month ago

लुधियाना में वकील व सास की धमकी से परेशान हाेकर युवक ने की खुदकुशी

ग्यासपुरा के अंबेडकर नगर की गली नंबर-7 में एक युवक ने वकील और सास की धमकी से परेशान हाेकर खुदकुशी...

लुधियाना न्यूज़1 month ago

किराए पर चल रहे 19 बैंकों पर होगी सीलिंग की कार्रवाई, प्रॉपर्टी मालिकों को भेजे जाएंगे नोटिस

नगर निगम ने टैक्स चोरी करने वाले 19 बड़े डिफॉल्टरों की पहचान की। उन टैक्स चोरों को निगम अगले हफ्ते...

लुधियाना न्यूज़1 month ago

गालिब कलां स्कूल के 3 और स्टूडेंट्स कोरोना पॉजिटिव, अब तक 23 छात्र, 14 टीचर हो चुके संक्रमित

गांव गालिब कलां सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्मार्ट स्कूल के कोरोना पॉजिटिव मरीजों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा...

लुधियाना न्यूज़1 month ago

लुधियाना के वार्ड 22 में लोगों को सीवरेज जाम की समस्या से मिलेगी निजात, मशीन से होगी सफाई

पिछले कई सालों से वार्ड 22 के इलाके में जगह जगह सीवरेज जाम के कारण कई दिनों से गलियों में...

Trending