Connect with us

हिंदी

“चारों तरफ से पटखनी खाए, अब जाए तो कहाँ जाए?” चीन के लिए पैंगोंग त्सो झील आखिरी मौका

Published

on

चीन ने बॉर्डर पर डीएस्केलेशन की प्रकिया के बीच यह कहा है कि, वह पैंगोंग झील पर किसी भी प्रकार की चर्चा नहीं चाहता। चीन का यह कदम LAC पर तनाव को और बढ़ा सकता है। साथ ही चीन के प्रवक्ता ने कहा है कि, हम भारत के साथ किसी भी प्रकार का टकराव नहीं चाहते। ऐसे में, सवाल उठता है कि चीन ऐसे बातें उठा ही क्यों रहा है?  इसका जवाब ये है कि, चीन अब हर मोर्चे पर भारत से पटखनी खा चुका है, ऐसे में भारत पर दबाव बनाए रखने के लिए पैंगोंग झील उसका अंतिम आसरा है.

दरअसल, जब भारत सरकार कोरोना से जूझने की नीतियां बना रही थी, तब चीन लदाख में घुसपैठ की योजना पर काम कर रहा था। कोरोना के फैलाव के कारण इस वर्ष भारतीय सेना ने लदाख में अपने सालाना अभ्यास को भी स्थगित कर दिया था और चीन ने भारतीय सेनाओं के ध्यान बंटने का फायदा उठाकर घुसपैठ कर दी। चीन की सेना चुपके से मलबा ढोने वाले ट्रकों में छुपकर सीमा पर बड़ी संख्या में आ गई। चीन को उम्मीद थी कि, कोरोना से जूझ रहा भारत आसानी से पीछे हट जाएगा और उसे किसी गंभीर चुनौती का सामना नहीं करना पड़ेगा, लेकिन इस बार भी भारतीय सेनाओं और मोदी सरकार ने उनके मंसूबों पर पानी फेर दिया।

भारत ने मिरर डिपलॉयमेंट टैक्टिक के द्वारा शुरू में चीन को जवाब दिया। इसका मतलब चीन ने जितने बल के साथ भारत पर दबाव डाला, भारत ने उतने ही बल के साथ उसका जवाब दिया। यही कारण था कि एक ओर भारत लगातार चीन के साथ बातचीत करता रहा, वहीं दूसरी ओर किसी भी हालत में बॉर्डर पर अपनी स्थिति से समझौता न करते हुए, चीन के जितनी ही सेना तैनात करता रहा।

अंततः यह तनाव टकराव में बदल गया और गलवान घाटी की झड़प हो गई। इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना में हमारे 20 जवान वीरगति को प्राप्त हुए, लेकिन यहाँ भी भारत ने चीन को उसकी हैसियत और भारतीय सेना की ताकत का अच्छे से एहसास दिला दिया। हमारे वीर जवानों के हाथों बुरी तरह से मारे गए चीनी सैनिकों के आंकड़े तक चीन ने जाहिर नहीं किये, लेकिन जब असलियत बाहर आई तो उसकी सेना का घमंड बुरी तरह चकनाचूर हो गया।

गलवान की झड़प भारत और चीन के लिए स्पष्ट संदेश था कि अब यहां से दोनों मुल्कों के रास्ते पूरी तरह से अलग हो गए हैं। यही कारण था कि भारत सरकार ने चीन के साथ धीरे-धीरे अपने सभी व्यापारिक संबंधों को समाप्त करने की ओर कदम बढ़ा दिया है। सबसे पहले भारत सरकार ने 59 चीनी apps को राष्ट्रीय सुरक्षा के मद्देनजर खतरा बताकर बैन कर दिया। बता दें कि apps के सेक्टर में चीन का ही राज चलता था, अतः इस फैसले ने न सिर्फ उसे आर्थिक चोट पहुंचाई गई बल्कि उसका दबदबा खत्म होने के कारण भारतीय app डेवेलपर्स को आगे बढ़ने का एक सुनहरा अवसर भी मिल गया।

मोदी सरकार का यह कदम इतना कारगर सिद्ध हुआ कि अब अमेरिका भी इसी दिशा में काम कर रहा है। भारत ने दुनिया को चीन से लड़ने का एक नया मॉडल दिखाया है। यह बीजिंग की दूसरी करारी हार थी।

अब भारत सरकार की योजना चीन को आईटी, मोबाइल विनिर्माण, उच्च शिक्षा के अलावा भारतीय खनन उद्योग के क्षेत्रों से भी खदेड़ने की है। जहाँ एक ओर, सरकार ने चीनी सामानों को कस्टम के फेर में फंसाकर भारतीय बाजार से दूर करने की योजना बनाई, वहीं टेलीविजन के निर्यात में भी ऐसे नियम बनाए कि चीनी कंपनियों को भारतीय बाजार से दूर किया जा सके। इतना ही नहीं, भारत सरकार ने हाल ही में चीन की कंफ्यूशियस इंस्टिट्यूट से संबंधित सभी कोर्स की जांच शुरू की है। यह इंस्टिट्यूट भारत में चीन के प्रभाव को उच्च शिक्षा के क्षेत्र में बढ़ाने के उद्देश्य से काम कर रहा था।

इसके अतिरिक्त भारत सरकार ने कोयला खदान के आवंटन में नए नियम लागू किये हैं जिसके तहत भारत के किसी भी पड़ोसी देश से संबध्द कंपनी को यदि कोयला खदान की नीलामी में हिस्सेदारी करनी है तो उसे भारत सरकार से विशेष अनुमति लेनी होगी। ऐसा ही प्रावधान उन कंपनियों के लिए भी किया गया है, जो भारत में मोबाइल निर्माण के क्षेत्र में निवेश करना चाहती हैं।

वास्तव में लदाख में घुसपैठ करना, चीन के गले की हड्डी बन गया है। उसे उम्मीद नहीं थी कि भारत उसकी इतनी दुर्गति करेगा। उसका इरादा था कि भारत पर दबाव बनाकर उसे अमेरिका के पाले में जाने से रोका जाए, साथ ही अपनी घरेलू समस्याओं से अपने लोगों का ध्यान हटाया जाए। लेकिन हुआ इसके उलट। एक तो भारत भी उसके विरुद्ध और मुखर हो गया, साथ ही साथ अमेरिका के साथ भी अधिक प्रगाढ़ संबंध बना लिए। अब चीन बस यह चाहता है कि वो अपने लोगों को यह दिखा पाए कि भारत के साथ ‘मिलिट्री एडवेंचर’ करके हमने पैंगोंग लेक की यथास्थिति में बदलाव कर दिया।

चीन यह जानता है कि भारत के साथ वो किसी लंबी लड़ाई में नहीं उलझ सकता और यदि बॉर्डर पर कोई छोटी लड़ाई होती है तो उसमें भी हार उसी की होगी। पैंगोंग लेक के इलाके पर भारत के साथ चर्चा से इनकार करके बीजिंग यही चाहता है कि उसे अपनी इज्जत बचाने का मौका मिल जाए।

Facebook Comments

Advertisement
Advertisement

Corona Updates

स्वास्थ्य7 hours ago

डायबिटीज़ से पीड़ित हैं, तो खाने में ज़रूर शामिल करें कूटू !

डायबिटीज एक लाइलाज बीमारी है। एक बार यह बीमारी लग जाए, तो फिर ताउम्र साथ रहती है। इस बीमारी में...

स्वास्थ्य7 hours ago

शरीर में ये बदलाव प्रोटीन की कमी के हैं लक्षण, इस तरह करें दूर

आधुनिक समय में सेहतमंद रहना बड़ी चुनौती है। इसके लिए डाइट में आवश्यक पोषक तत्वों का शामिल करना बेहद जरूरी...

लुधियाना न्यूज़8 hours ago

लुधियाना में साइबर क्राइम में बड़ी IT कंपनी पर मामला दर्ज, 4 लोगों को पुलिस ने लिया हिरासत में

लुधियाना के पक्खोवाल रोड स्थित एजुकेशन culture प्राइवेट लिमिटेड (डिजिटल पाठशाला )की तरफ से अपने ही एक एंप्लॉय पर डाटा...

पंजाब8 hours ago

दो पोतों ने दादा के जाली साइन कर खाते से निकाले 16 लाख रुपए

गांव लाधुका में दो पोतों ने दादा की सेवा करते-करते जाली दस्तखत करवा बैंक खाते से पैसा निकाल लिया। थाना...

पंजाब8 hours ago

रेलवे स्टेशन पर ऑटो, निजी वाहनों की आवाजाही खुली, लाॅकडाउन के चलते लगा दी गई थी रोक

रेलवे स्टेशनों पर वाहनों की आवाजाही के लिए रास्ता खोल दिया गया है। अब वाहन रेलवे स्टेशन के एंट्री गेट...

पंजाब8 hours ago

किसान आंदोलन में जान गंवाने वाले 76 लोगों के परिवारों को 5 लाख और सरकारी नौकरी का ऐलान

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किसान आंदोलन में मारे गए 76 लोगों के परिवारों के लिए बहुत बड़ा...

पंजाब9 hours ago

मोगा में स्कूल में घुसा युवक, अन्य छात्रों को क्लास में बंद कर छात्रा से करने लगा अश्लील हरकतें

पंजाब के मोगा जिले में स्थित गांव डूढीके के सरकारी प्राइमरी स्कूल में एक युवक शुक्रवार सुबह 9ः30 बजे स्कूल...

लुधियाना न्यूज़9 hours ago

लुधियाना में गणतंत्र दिवस समाराेह की फुल ड्रेस रिहर्सल, DC वरिंदर शर्मा ने परेड की ली सलामी

लुधियाना के गुरुनानक स्टेडियम में शनिवार काे गणतंत्र दिवस समाराेह की फुल ड्रेस रिहर्सल की गई। डिप्टी कमिश्नर वरिंदर शर्मा...

लुधियाना न्यूज़9 hours ago

लुधियाना में बिना सीएलयू के 15 दुकानें सील, 3 दुकानों पर चला बुल्डोजर

बिना चेंज ऑफ लैंड यूज के बनी 15 दुकानों को सीलिंग करने, इललीगल तरीके से काटी जा रही काॅलोनी और...

लुधियाना न्यूज़9 hours ago

लुधियाना में कोरोना संक्रमण के 44 नए मामले आए, दो लोगों की मौत

लुधियाना में शनिवार को कोरोना के 44 मामले आए। इसमें से 40 मामले जिले से संबंधित रहे, जबकि चार मामले...

लुधियाना न्यूज़9 hours ago

लुधियाना में बढ़ने लगी रफ्तार, 73.96 फीसद टारगेट अचीव

कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर असमंजस में फंसे सरकारी अस्पताल के हेल्थ केयर वर्करों के मन से डर निकालने के लिए...

लुधियाना न्यूज़9 hours ago

जगराओं में सरकारी स्कूल गालिब कलां की टीचर की कोरोना से मौत, दो बार टेस्ट रिपोर्ट आई थी नेगेटिव

जगराओं में सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्मार्ट स्कूल गालिब कलां की मैथ टीचर तेजिंदर कौर की सुबह साढ़े सात बजे कोरोना...

लुधियाना न्यूज़9 hours ago

लुधियाना के स्क्रैप की आड़ में ड्राई डेट्स आयात करने वाला कस्टम हाउस एजेंट दबोचा

स्क्रैप की आड़ में खजूर (ड्राई डेट्स) मंगवाने के मामले का किंगपिन कस्टम हाउस एजेंट (सीएचए) ही निकला। लंबी जांच...

लुधियाना न्यूज़9 hours ago

बढ़ रही परेशानी: लुधियाना में जगराओं के स्मार्ट स्कूल गालिब कलां की 3 छात्राएं संक्रमित

सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्मार्ट स्कूल गालिब कलां में दस अध्यापकों के पाजिटिव आने के बाद छात्राओं के भी सैंपल लिए...

लुधियाना न्यूज़10 hours ago

लुधियाना में वैक्सीनेशन के बाद बोले अधिकारी, जरूर लगवाएं टीका

देश में कोरोना के खिलाफ टीकाकरण अभियान शुरुआत हो चुकी है। जिले में भी इसकी मांग जोर पकड़ने लगी है।...

Trending