Connect with us

हिंदी

अमर सिंह- वह नेता जिसने समाजवादी पार्टी का अंत सुनिश्चित किया

Published

on

राज्यसभा सांसद और समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता अमर सिंह का 64 साल की उम्र में, शनिवार को सिंगापुर के एक अस्पताल में निधन हो गया। वो काफी दिनों से बीमार चल रहे थे और कुछ दिनों पहले ही उनका किडनी ट्रांसप्लांट किया गया था।

अमर सिंह भारतीय राजनीति में एक ऐसा नाम हैं जिन्होंने राजनीति को कॉर्पोरेट और ग्लैमर से जोड़ा और इन तीनों के मिश्रण से अपनी पहचान बनाई। उनके कैरियर को देखा जाए तो उनके अर्श से फर्श तक पहुंचने की एक बेजोड़ कहानी है। कहा जाता है कि, समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव और अमर सिंह के रिश्ते की नींव उस समय बनीं जब एचडी देवगौड़ा देश के प्रधानमंत्री बने। देवगौड़ा हिंदी नहीं बोल पाते थे और मुलायम का अंग्रेजी में हाथ तंग था, ऐसे में देवगौड़ा और मुलायम के बीच दुभाषिए की भूमिका अमर सिंह ही निभाते थे। उस समय से शुरू हुआ इस साथ के कारण उनकी पहचान मुलायम सिंह के दाहिने हाथ के रूप में बन गई। ये रिश्ता इतना खास था कि मुलायम बिना अमर के कोई फैसला नहीं लेते थे। अमर सिंह ही वो व्यक्ति थे जिन्होंने सपा को एक ग्रामीण पार्टी की पहचान से निकाल कर ग्लैमर से जोड़ दिया था। जिस पार्टी फंड के लिये मुलायम और शिवपाल साइकिल पर घूमते थे अमर सिंह उसे मंजिल तक पहुंचाते थे। अमर सिंह ने उन्हें बॉलीवुड और कॉर्पोरेट का ऐसा समन्वय दिया कि सैफई में हर साल ग्रैंड फेस्टिवल होने लगा। हालांकि, जैसे-जैसे समय बीता और अमर सिंह के करतूतों का कच्चा चिट्ठा खुलता गया तो सपा में कई नेता उनके खिलाफ होते गए। पार्टी के अंदर बढ़ते विरोध को देखते हुए अमर सिंह को 2009 में सपा से निकाल दिया गया और 2011 में तथाकथित ‘वोट फॉर नोट’ घोटाले में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

हालांकि, अमर सिंह डंके की चोट पर कहते थे वो ”मुलायमवादी” हैं और उनकी वफादारी मुलायम सिंह यादव के प्रति है, न कि पार्टी के प्रति। इसी का एक नमूना हमें समाजवादी दंगल के दौरान भी देखने को मिला था जब मुलायम का परिवार टूटने की कगार पर पहुंच गया था।

उस दौरान समाजवादी पार्टी के पारिवारिक कलह में अखिलेश यादव ने रामगोपाल यादव के साथ मिलकर पिता मुलायम सिंह यादव और चाचा शिवपाल यादव के खिलाफ बगावत कर दी थी। कहा जाता है कि अमर सिंह ने ही मुलायम से अखिलेश को पार्टी अध्यक्ष पद से हटा कर शिवपाल को अध्यक्ष बनाने के लिए कहा था। इस फैसले के बाद अखिलेश के साथ कई वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी से बगावत कर दी थी और समाजवादी पार्टी दो खेमे में बंट गया था। दोनों खेमों के बीच का यह विवाद चुनाव आयोग तक पहुंचा था, जिसमें अखिलेश को ही पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष माना गया था।

दरअसल, जब साल 2009 में अमर सिंह को सपा से निकाला गया था तब ही यह तय हो गया था कि अमर सिंह किसी न किसी तरह वापसी करेंगे। सपा से निकाले जाने के बाद अमर सिंह पर कई आरोप लगे और वह इस बीच तिहाड़ जेल भी गए। हालांकि, इस बीच वे दूसरी पार्टियों में भी जाने की कोशिश करते रहे लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली। इसके बाद अमर सिंह फिर से 2016 में समाजवादी पार्टी का दरवाजा खटखटाने लगे। इसके लिए उन्होंने अपना निशाना चुना अखिलेश के चाचा शिवपाल यादव को। कुछ मिडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, उस दौरान शिवपाल से यह कहा गया था कि अगर वो Amar singh की एंट्री सुनिश्चित करेंगे तो उन्हें अखिलेश की जगह पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बना दिया जाएगा।

वर्ष 2016 में उनकी सपा में पुन: वापसी हुई। यहीं से सपा में आंतरिक कलह शुरू हुई जो आखिरकार पार्टी टूटने का कारण भी बनी। मुलायम सिंह के साथ दशकों तक काम करने वाले अमर सिंह उनकी कमजोरियों से भी भली-भांति परिचित थे, इसी का फायदा उठाते हुए उन्होंने बेटे और पिता के बीच दरार डालना शुरू कर दिया था। अखिलेश, राम गोपाल यादव और आज़म खान के विरोध के बावजूद मुलायम ने अमर सिंह को राज्यसभा भेजा। धीरे-धीरे Amar singh पार्टी में अपनी दखल बढ़ाते गए और बाप-बेटे के बीच दरार भी बड़ा होता गया।

14 अगस्त 2016 को जब शिवपाल यादव ने पार्टी छोड़ने की धमकी दी, तब अगले ही दिन नेताजी का बयान सामने आया कि यदि शिवपाल पार्टी छोड़ देंगे तो पार्टी टूट जाएगी। मुलायम और अखिलेश के बीच दरार इतनी बढ़ गयी कि अखिलेश द्वारा शिवपाल के समर्थक नेताओं को पार्टी से निकाले जाने के बाद 13 सितंबर को मुलायम सिंह ने शिवपाल को यूपी प्रभारी नियुक्त कर दिया।

इस दौरान दोनों चाचा-भतीजे के साथ मुलायम यादव की बंद कमरे में मीटिंग भी हुई जिसमें चाच-भतीजे के बीच हाथापाई तक की आशंका जताई जाती है। इसके बाद 19 सितंबर 2016 को शिवपाल ने अखिलेश से बदला लेते हुए पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष की हैसियत से 7 अखिलेश समर्थक नेताओं को पार्टी से निष्कासित कर दिया। चाचा भतीजा एक दूसरे से वर्चस्व की लड़ाई लड़ते रहे और एक दूसरे को नीचा दिखाने का एक मौका भी नहीं छोड़ा।

हालांकि, अखिलेश हमेशा यह कहते रहे कि यह लड़ाई “एक बाहरी” के कारण हो रही है। रामगोपाल यादव ने भी कहा था कि जिस तरह मुख्यमंत्री को बिना बताए अचानक उनसे प्रदेश अध्यक्ष का पद ले लिया गया, वही सपा में अंतरकलह का कारण बना। उन्होंने एक खुलासे में कहा था, “मुख्यमंत्री को प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी से हटाए जाने वाली रात नेताजी (मुलायम) का उनके पास फोन आया कि अखिलेश को प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटा दीजिए और शिवपाल को यह पद दे दीजिए। नेताजी बेहद जल्दबाजी में यह पत्र हमसे लिखवाना चाह रहे थे। यह काम खुद को मुलायमवादी कहने वाले Amar singh का था जिनकी निष्ठा सिर्फ नेताजी से है, समाजवादी पार्टी से नहीं।“ 14 अक्टूबर 2016 को मुलायम सिंह यादव ने तो यह तक कह दिया था कि चुनावों के बाद सीएम, विधायकों के द्वारा चुना जाएगा यानि उन्हें परोक्ष रूप से अखिलेश से सीएम पद छीनने का मन बना लिया था। लेकिन 23 अक्तूबर को अखिलेश ने शिवपाल समेत कुछ अन्य मंत्रियों को सरकार से बरखास्त कर इस विवाद को एक नया मोड़ दे दिया था। देखा जाए तो राम गोपाल यादव की अमर सिंह को लेकर कही हुई बात आज भी सच है। उन्होंने कहा था कि मुलायम सिंह यादव की सरलता का फायदा उठा कर अमर सिंह ने अखिलेश को प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटाने का फैसला करवा दिया। यह विधानसभा चुनाव के पहले सपा की छवि को खराब करने का एक षड्यंत्र था।” अमर सिंह को 2017 में पार्टी से दूसरी बार निष्कासित किया गया था।

अमर सिंह द्वारा शुरू किए गए इस पारिवारिक कलह का ही नतीजा था कि समाजवादी पार्टी को 2017 के विधान सभा चुनावों में भारी हार का सामना करना पड़ा और वह अभी तक जनता की नजर में उठ नहीं पाई है।

Facebook Comments

Advertisement
Advertisement

Corona Updates

स्वास्थ्य19 hours ago

डायबिटीज़ से पीड़ित हैं, तो खाने में ज़रूर शामिल करें कूटू !

डायबिटीज एक लाइलाज बीमारी है। एक बार यह बीमारी लग जाए, तो फिर ताउम्र साथ रहती है। इस बीमारी में...

स्वास्थ्य19 hours ago

शरीर में ये बदलाव प्रोटीन की कमी के हैं लक्षण, इस तरह करें दूर

आधुनिक समय में सेहतमंद रहना बड़ी चुनौती है। इसके लिए डाइट में आवश्यक पोषक तत्वों का शामिल करना बेहद जरूरी...

लुधियाना न्यूज़19 hours ago

लुधियाना में साइबर क्राइम में बड़ी IT कंपनी पर मामला दर्ज, 4 लोगों को पुलिस ने लिया हिरासत में

लुधियाना के पक्खोवाल रोड स्थित एजुकेशन culture प्राइवेट लिमिटेड (डिजिटल पाठशाला )की तरफ से अपने ही एक एंप्लॉय पर डाटा...

पंजाब20 hours ago

दो पोतों ने दादा के जाली साइन कर खाते से निकाले 16 लाख रुपए

गांव लाधुका में दो पोतों ने दादा की सेवा करते-करते जाली दस्तखत करवा बैंक खाते से पैसा निकाल लिया। थाना...

पंजाब20 hours ago

रेलवे स्टेशन पर ऑटो, निजी वाहनों की आवाजाही खुली, लाॅकडाउन के चलते लगा दी गई थी रोक

रेलवे स्टेशनों पर वाहनों की आवाजाही के लिए रास्ता खोल दिया गया है। अब वाहन रेलवे स्टेशन के एंट्री गेट...

पंजाब20 hours ago

किसान आंदोलन में जान गंवाने वाले 76 लोगों के परिवारों को 5 लाख और सरकारी नौकरी का ऐलान

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किसान आंदोलन में मारे गए 76 लोगों के परिवारों के लिए बहुत बड़ा...

पंजाब20 hours ago

मोगा में स्कूल में घुसा युवक, अन्य छात्रों को क्लास में बंद कर छात्रा से करने लगा अश्लील हरकतें

पंजाब के मोगा जिले में स्थित गांव डूढीके के सरकारी प्राइमरी स्कूल में एक युवक शुक्रवार सुबह 9ः30 बजे स्कूल...

लुधियाना न्यूज़21 hours ago

लुधियाना में गणतंत्र दिवस समाराेह की फुल ड्रेस रिहर्सल, DC वरिंदर शर्मा ने परेड की ली सलामी

लुधियाना के गुरुनानक स्टेडियम में शनिवार काे गणतंत्र दिवस समाराेह की फुल ड्रेस रिहर्सल की गई। डिप्टी कमिश्नर वरिंदर शर्मा...

लुधियाना न्यूज़21 hours ago

लुधियाना में बिना सीएलयू के 15 दुकानें सील, 3 दुकानों पर चला बुल्डोजर

बिना चेंज ऑफ लैंड यूज के बनी 15 दुकानों को सीलिंग करने, इललीगल तरीके से काटी जा रही काॅलोनी और...

लुधियाना न्यूज़21 hours ago

लुधियाना में कोरोना संक्रमण के 44 नए मामले आए, दो लोगों की मौत

लुधियाना में शनिवार को कोरोना के 44 मामले आए। इसमें से 40 मामले जिले से संबंधित रहे, जबकि चार मामले...

लुधियाना न्यूज़21 hours ago

लुधियाना में बढ़ने लगी रफ्तार, 73.96 फीसद टारगेट अचीव

कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर असमंजस में फंसे सरकारी अस्पताल के हेल्थ केयर वर्करों के मन से डर निकालने के लिए...

लुधियाना न्यूज़21 hours ago

जगराओं में सरकारी स्कूल गालिब कलां की टीचर की कोरोना से मौत, दो बार टेस्ट रिपोर्ट आई थी नेगेटिव

जगराओं में सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्मार्ट स्कूल गालिब कलां की मैथ टीचर तेजिंदर कौर की सुबह साढ़े सात बजे कोरोना...

लुधियाना न्यूज़21 hours ago

लुधियाना के स्क्रैप की आड़ में ड्राई डेट्स आयात करने वाला कस्टम हाउस एजेंट दबोचा

स्क्रैप की आड़ में खजूर (ड्राई डेट्स) मंगवाने के मामले का किंगपिन कस्टम हाउस एजेंट (सीएचए) ही निकला। लंबी जांच...

लुधियाना न्यूज़21 hours ago

बढ़ रही परेशानी: लुधियाना में जगराओं के स्मार्ट स्कूल गालिब कलां की 3 छात्राएं संक्रमित

सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्मार्ट स्कूल गालिब कलां में दस अध्यापकों के पाजिटिव आने के बाद छात्राओं के भी सैंपल लिए...

लुधियाना न्यूज़21 hours ago

लुधियाना में वैक्सीनेशन के बाद बोले अधिकारी, जरूर लगवाएं टीका

देश में कोरोना के खिलाफ टीकाकरण अभियान शुरुआत हो चुकी है। जिले में भी इसकी मांग जोर पकड़ने लगी है।...

Trending