Connect with us

हिंदी

अब Co-operativeबैंकों पर RBI रखेगा न निगरानी, कांग्रेस, NCP, INLD और राष्ट्रीय लोक दल होंगी पैसे-पैसे को मोहताज

Published

on

कांग्रेस, एनसीपी, आईएनएलडी और राष्ट्रीय लोक दल में समानता क्या है? वंशवादी होने के अलावा यह पार्टियां कृषि प्रधान पार्टी हैं, जो कथित तौर पर किसानों के हक के लिए लड़ती हैं। लेकिन एक और समानता इनमें ये भी है कि इन्होंने सहकारी बैंक यानि Cooperative Banks को अपने शासन में कई बार नोट छापने की मशीन में परिवर्तित किया है, जिससे पार्टी चलाने के लिए आवश्यक धन की आपूर्ति बनी रहती थी। परंतु अब और नहीं, क्योंकि केंद्र सरकार ने एक झटके में इन पार्टियों का यह सुख भी उनसे छीन लिया है।

हाल ही में केंद्र सरकार ने एक अध्यादेश पारित किया है जिसके अंतर्गत न केवलB anking Regulation Act, 1949 (बैंकिंग विनियमन अधिनियम, 1949) का संशोधन, अपितु संशोधन के अंतर्गत सभी शहरी सहकारी [Cooperative] बैंक्स अब स्पष्ट रूप से आरबीआई के दायरे में आएंगे। इस सरकारी निर्देश का असर करीब 1500 से अधिक सहकारी बैंकों पर अवश्य पड़ेगा। मनी लाइफ की रिपोर्ट के अनुसार, “इस अध्यादेश के अंतर्गत प्राइमरी सहकारी सोसाइटी, राज्य स्तर के सहकारी बैंकों और जिला स्तरीय सहकारी बैंकों के मूल सदस्यों को कवर नहीं किया जाएगा, क्योंकि इनकी देखभाल नाबार्ड [NABARD] बहुत अच्छे से कर रहा है”।

अब चूंकि शहरी सहकारी बैंक आरबीआई के दिशा निर्देश अनुसार काम करेंगी, तो ये निर्णय एनसीपी, वाईएसआर कांग्रेस, काँग्रेस, टीडीपी, आईएनएलडी जैसी पार्टियों के लिए किसी दुस्वप्न से कम नहीं होगा। यह शहरी सहकारी बैंक इन पार्टियों के काले धन के गोरखधंधे के लिए मानो लाइफ लाइन थी। इन बैंकों का वार्षिक राजस्व हजारों करोड़ रुपयों का होता था। चूंकि इनका प्रबंध अक्सर स्थानीय नेताओं के हाथ में होता था, इसलिए ये बैंक कई घोटालों का केंद्र भी होता था। उदाहरण के लिए महाराष्ट्र के एनसीपी को ही देख लीजिये। जब एनसीपी शासन में थी, तभी से इन बैंकों द्वारा दिये जाने वाले लोन पर राज्य की गारंटी लागू होती थी। इसका अर्थ था कि क्षेत्रीय एनसीपी नेता जब मन चाहे तब करोड़ों रुपये का कर्जा ले सकता था, और वे बकाया लौटाते भी नहीं थे।

इस स्थिति में यदि बैंक डूब जाते, तो राज्य सरकार राज्य के कोषागार से धन निकालकर न केवल जमा करने वाले ग्राहकों के पैसों को सुरक्षित रखती, बल्कि बैंक को भी जैसेम-तैसे बचा लेती। जो राजनेता जानबूझकर पैसा नहीं चुकाते, उन्हें आंच भी नहीं आती। पर अब ऐसा और नहीं चलेगा। यूं तो Devendra Fadnavis (देवेन्द्र फडणवीस) ने अपने शासन में बैंकों के भ्रष्टाचार पर काफी हद तक लगाम लगाने की कोशिश की। इतना ही नहीं, उन्होंने 2016 में ये अध्यादेश भी पारित किया कि सहकारी बैंकों के जो भी निदेशक, विशेष रूप से राजनैतिक निदेशक भ्रष्टाचार के गतिविधियों में लिप्त पाये जाएँगे, उन्हें तत्काल प्रभाव से दो सत्रों के लिए चुनाव में हिस्सा लेने से प्रतिबंधित किया जाएगा। परंतु उनके सत्ता से बाहर होते ही सारे किए कराये पर पानी फेर दिया गया ।

सहकारी बैंकों के जरिये काले धन का धनोपार्जन की जड़ें कितनी गहरी थी, इसका अंदाज़ा आप इसी बात से लगा सकते हो कि पिछले वर्ष प्रवर्तन निदेशालय यानि ED ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार पर 25000 करोड़ रुपये का घोटाला करने का आरोप लगाया था। ईडी ने शरद, उनके भतीजे अजित पवार और 70 अन्य अफसरों के विरुद्ध पीएमएलए के अंतर्गत महाराष्ट्र राज्य सहकारी बैंक द्वारा क्षेत्रीय चीनी मिलों को लोन देने के नाम पर 25000 करोड़ रुपये का घपला करने का मुक़दमा दर्ज किया था।

शरद पवार से बढ़िया और कोई उदाहरण नहीं हो सकता ये सिद्ध करने के लिए कि कैसे राजनेता सरकारी दफ्तरों और राजस्व का उपयोग केवल अपना उल्लू सीधा करने के लिए करते हैं। सहकारी बैंकों से कमाए काले धन से ही शरद पवार ने महाराष्ट्र में अपनी पैठ जमाई, और आज सत्ता का सुख भी प्राप्त कर रहे हैं। लेकिन बैंकिंग रेगुलेशन एक्ट में संशोधन से मोदी सरकार ने शरद पवार के साम्राज्य की नींव पर ही वार किया है। इससे न केवल सहकारी बैंकों में भ्रष्टाचार में भारी मात्र में कमी आएगी, बल्कि इन बैंकों के जरिये काला धन उत्पन्न करने में जुटी पार्टियों को भी अब करारा झटका लगेगा।

Facebook Comments

Advertisement
Advertisement

Corona Updates

लुधियाना न्यूज़12 hours ago

लुधियाना में तेज धूप निकलने से बदला माैसम, ठंड से मिली राहत

महानगर में शनिवार को तेज धूप निकलने से ठंड से राहत मिली।सुबह नौ बजे ही अधिकतम तापमान 19 डिग्री सेल्सियस...

देश1 day ago

गिर गया सोने का भाव, चांदी भी टूटी, जानिए क्या रह गई हैं कीमतें

घरेलू सर्राफा बाजार में सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन शुक्रवार को सोने की हाजिर कीमत में गिरावट दर्ज की गई।...

देश1 day ago

1 दिसंबर से हो रहे ये बदलाव, जानें पूरी डिटेल

अगले माह की पहली तारीख यानि 1 दिसंबर 2020 से कई नियम बदल जाएंगे जिनका प्रभाव सीधे तौर पर लोगों...

बॉलीवुड1 day ago

भारती-हर्ष के अरेस्ट पर बोलीं राखी सावंत, मंत्रियों के बेटे क्यों नहीं पकड़े जा रहे ?

बॉलीवुड के ड्रग्स रैकेट में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो द्वारा कॉमेडियन भारती सिंह और उनके पति हर्ष लिंबाचिया को गिरफ्तार किए...

देश1 day ago

चंडीगढ़ से दिल्ली और जयपुर जाने के लिए लोग बस अड्डे पर फंसे

चंडीगढ़ से दिल्ली व अन्य स्थानों पर चलने वाली बसें पिछले दो दिनों से पूरी तरह से बंद है। ऐसे...

देश1 day ago

किसानों को दिल्ली में घुसने की मिली इजाजत, कैप्टन ने किया फैसले का स्वागत

केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों को दिल्ली में घुसने की इजाजत मिल गई है।...

लुधियाना न्यूज़1 day ago

लुधियाना के शाहपुर रोड का भी है इतिहास, जानिए कैसे मिला इस सड़क को ये नाम

शहर के मशहूर शाहपुर रोड को बेशक आज इसकी शानदार मार्केट के लिए जाना जाता है, लेकिन इसके नाम के...

लुधियाना न्यूज़1 day ago

लुधियाना में 4 एएसआइ व एक कांस्टेबल नौकरी से बर्खास्त, जानिए क्या था मामला

विजिलेंस विभाग में दर्ज हुए भ्रष्टाचार की जांच का सामना कर रहे 5 पुलिस मुलाजिमों को नौकरी से बर्खास्त कर...

बॉलीवुड1 day ago

कंगना की HC में बड़ी जीत, BMC को देना होगा दफ्तर तोड़ने का हर्जाना

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत के पाली हिल स्थित दफ्तर को तोड़े जाने संबंधित मामले पर हाई कोर्ट ने अपना फैसला...

स्वास्थ्य1 day ago

गैस या पेट फूलने की समस्या से हैं परेशान? तुरंत राहत देंगी ये घरेलू चीजें

पेट फूलने या गैस की समस्या होना आम बात है. हालांकि कई लोगों को ये दिक्कत अक्सर ही बनी रहती...

हेल्थ1 day ago

शरीर को अंदर से गर्म रखती हैं ये 5 चीजें, सर्दियों में जरूर खाएं

सर्दियों में ठंड से बचने के लिए सिर्फ गर्म कपड़े ही काफी नहीं होते हैं. इस मौसम में हमें अपनी...

लुधियाना न्यूज़2 weeks ago

हजारों नम आंखों ने दी श्री बालाजी भक्त अशोक जैन को विदाई

सिद्व पीठ महाबली संकटमोचन श्री हनुमान मंदिर के प्रधान स्व. अशोक जैन की अंतिम शव यात्रा में हजारों नम आंखों...

लुधियाना न्यूज़3 weeks ago

जैन समाज द्वारा लॉकडाउन में किए सेवा कार्यों के उपलक्ष में डीसीपी द्वारा विशेष सम्मान पत्र दिया

आज पुलिस कमिश्नर कार्यालय की ओर से मिनी सेक्ट्रिएट में लुधियाना के समाजसेवियों एवं उद्योगपतियों को कमिश्नर पुलिस की ओर...

लुधियाना न्यूज़1 month ago

लुधियाना में वर्करों के लिए 50,000 घर बनाने के प्रोजेक्ट को कैप्टन अमरिंदर सिंह की मंजूरी

औद्योगिक विकास के साथ लुधियाना में दूसरे राज्यों से भारी संख्या में वर्कर भी आए। जहां-जहां उन्हें फैक्ट्रियों में काम...

लुधियाना न्यूज़1 month ago

रेडीसन ब्लू होटल एमबीडी लुधियाना नवीनीकृत सुरक्षा और स्वच्छता प्रोटोकॉल के साथ होटल खुला

कोविड -19 ने होस्पिटलिटी सेक्टर में नए अवसरों की पेशकश की है। अभूतपूर्व समय से गुज़रने के बाद रेडिसन ब्लू...

Trending